जागरण संपादकीय ब्लॉग

बहस, वाद-विवाद व विमर्श का मंच

10 Posts

124 comments

Anand Madhab, Jagran


Sort by:

धरती नौकरशाहों के बोझ से दबी जा रही है,

Posted On: 2 Sep, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

32 Comments

आओ मिल कर करें एक प्रयास.

Posted On: 15 Aug, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

रिक्शा पावं से नहीं : पेट से चलता है…

Posted On: 28 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

इज्जत के लिए हत्या: एक बर्बर मानसिकता का प्रतीक!

Posted On: 3 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 2.60 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

26 Comments

जरा सोचिये: क्योँ बनें हम शिक्षक?

Posted On: 27 Jun, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

5 Comments

एक कलाकार की मौत

Posted On: 18 Feb, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

5 Comments

” कुहा का कहर”

Posted On: 2 Feb, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

Posted On: 8 Jan, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

A Solitary Footstep Resolved… …Makes The Whole World Involved

Posted On: 7 Jan, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

49 Comments

Hello world!

Posted On: 5 Jan, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: aryaji aryaji

-IN INDIA,ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFFESION INDIVIDUAL CASTES HINDU RELIGION प POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DPOVERTYABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION BY MANTU KUMAR SATYAM,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority),Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL,AIRCEL MOBILE TOWER, Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN-MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14)(ONE YEAR POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS COMPLETE)& post graduate diploma in criminal justice and forensic science from Hyderabad university center of distance education(session 2012-13) BLOG - POVERTY SOLUTION IN INDIA,IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER ROLE OF LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S BLOG DETAIL-concerned ,political,economical and social in reference INDIA ,HINDU RELIGION caste system social structure ,caste power(DABANG),business(INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system ,caste power (DABANG),development or advancement or business(INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very - very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number. Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA

के द्वारा:

-Bureaucracy in INDIA in reference of HINDU religion individual castes. BY MANTU KUMAR SATYAM,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority),Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL,AIRCEL MOBILE TOWER, Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN-MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . Occupation-One year post graduate diploma in human rights from IIHR,NEW DELHI,2nd year continue. IN INDIA HINDU RELIGION which caste have sufficient no. of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S ,which castes bureaucracy/officer have to give the pressure on govt or say it stop the progress of file Due to which castes face more problem have not basics facility of large no. of people like land owner ,business ,employment position,for the concerned of major file progress stop say it like politicians. For major file also flash in news and many time oppose the officers for above mention bureaucracy which HINDU castes politicians have sufficient no. of lawyer and M.B.B.S indirectly support of the problem. But problem it fight against bureaucracy reality in ground level which people have face the problem. which HINDU castes have not sufficient no of lawyer/M.B.B.S/M.D /M.S not fight on ground level against bureaucracy .Also same above mention say it for individual people file not major community group development concerned file. officers which HINDU CASTES have sufficient no. of lawyer have more resistance to fight against cases . Also give the more many type pressure backward castes people have not sufficient no . of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S to have not done cases against the officers,in Officers which HINDU castes have not sufficient no. of lawyer due to environment pressure of stop the progress of file which by the pressure of which HINDU castes sufficient no. of lawyer and M.B.BS/M.D/M.S.

के द्वारा:

Dear Anand ji आपका कहना शायद ठीक है 1986 में बिहार की धरती नौकरशाहों के बोझ से दबी जा रही थी और , नेतागण तो सिर्फ दिखने के दन्त थे .”.और यह नौकरशाह आजादी के बाद से भारत में अंग्रेजों की कमी पूरी कर रहे है आज की स्तिथि में अगर श्रीमती तारकेश्वरी सिन्हा का साक्षात्कार आपको पुन: लेना संभव होता तो श्रीमती तारकेश्वरी सिन्हा आप से ये कहती --- "बिहार(भारत) की धरती भ्रष्टाचार के बोझ से दबी जा रही है और लोकतंत्र तो सिर्फ दिखने के दन्त है " और यह सटीक भी होता हमारे देश के सविधान में संशोधन करने की जरुरत है सविधान में लोकतंत्रात्मक गणराज्य शब्द को विलोपित करके नेतातन्त्रात्मक गणराज्य या अफसर तंत्रात्मक गणराज्य करना चाहिए जिससे यह बोध हो सके की आज लोकतंत्र के आड़ पर अफसर तंत्र कैसे अपना एकक्षत्र राज चला रही है

के द्वारा: jitendra kumar jitendra kumar

के द्वारा: rpkasture rpkasture

हर कोई ढेर सारा पैसा कमाकर अमीर बनना चाहता है अमीरी किसको अच्छी नहीं लगती आज के सन्दर्भ में ,हमारी शिक्छा प्रणाली बाबु या अफसर इन दो मुकामों पर पहुचने के रस्ते प्रशस्त करती है कभी किसी स्कुल में चरित्रवान बनो, इमानदार बनो, सादगी से रहना सीखो "सादा जीवन उच्च विचार "ऐसा भारत के किसी विद्यालय में नहीं पढाया जाता जब हमारे देश की शिक्छा प्रणाली हीं दोषपूर्ण है तब ऐसे में चरित्रवान , इमानदार युवा एवं युवती कहाँ दिखलाई पड़ेंगे अतः सबसे पहले हमारे स्कूलों की पाठ्यपुस्तक में सुधार की जरुरत है, हमारे देश में शिक्छा पर कितने सारे शोध हो रहें हैं पर उनमे सचाई ईमानदारी चरित्रवान होना चाहिए ऐसा कोई शोध नहीं होता दीखता पहले कभी पढ़ा था "उत्तम खेती , माध्यम बाण , नीच चाकरी, भीख निदान " और आज क्या हो रहा है किसान जो खेती करके परिश्रम से अनाज पैदा कर रहा है वह आत्महत्या करने को मजबूर है और आत्महत्या कर रहा है ,क्या किसी नेता या मंत्री ने सोंचा ऐसा क्यूँ हो रहा है ? ऐसा इसलिए हो रहा है क्यूंकि अपने देश में ऐसे हालत पैदा किये जा रहें हैं की जो अनाज पैदा करेगा वही भूखों मरेगा बिचौलियों की चांदी है कुछ करना नहीं है बस जब फसल किसान के घर आ जाये औने पौने दाम पर लेकर दुगुने तिगने दाम में उसी अनाज को बेचे और उससे हिसाब मांगने वाला कोई नहीं इस देश में मिहनतकाश हीं दुःख तकलीफ में जियेगा ऐसा माहौल बनाया गया है अपने देश में अतः किसानो को भी एकजुट होकर सरकार से लड़ना होगा आज नेता की जरुरत किसानो को है और वह नेता उनके बीच से ही निकलना चाहिए न की दिल्ली में बैठे किसी पार्टी के नेता होना चाहिए जब तक किसान अपने संघर्ष के लिए आगे नहीं आयेंगे उनका भला कभी नहीं हो सकता . पांच राज्यों के चुनाव में भी कोई नेता किसानो की हालत कैसे सुधरेगी ऐसा कहता नहीं दीखता सब एक दुसरे पर आरोप प्रत्यारोप कर रहें हैं एक सापनाथ है तो दूसरा नागनाथ जनता किसको अपनाये ? पूरी की पूरी ब्यवस्था हीं बदलने की जरुरत आज आन पड़ी है इसे जनता हीं बदल सकती है विशेषकर युवा एवं युवती अपना कीमती वोट अपने छेत्र के इमानदार नेता को जिताकर और वोट देने जरुर जाये घर का हर बायस्क , मर्द या औरत सबको मतदान में हिस्सा लेना चाहिए तभी देश की सूरत बदलेगी और भ्रष्टाचार पर भी काबू प्या जा सकेगा .

के द्वारा:

के द्वारा: Avinash Avinash

In the present crisis faced by the Nation, I can see that the whole lot of the YOUNG BHARAT (INDIA) has awakened to a new reality and rallied around Shri ANNA Hajare ji in an unbelievable manner, rising from a one point agenda of getting the Jan Lok Pal Bill passed by the House, to severe condemnation of the Indifference shown, repeatedly by those Servants of Democracy called parliamentarians, across all political parties. It is difficult to believe such a disciplined congregation of youth without having any political aspirations in sight either for them or those who are among the Cadre of Social Activists with Shri Anna Ji Like Shri Arvind Kejriwal, Shri Prashant Bhushan,Smt. Kiran Bedi, Shri manish Sisodiya etc., The Demon of Corruption which had been eating and thriving on the flesh and blood sucked slowly over last 56 years of formation of the republic, like a parasite into the normal life of the citizens.Today seeing on the channels I find that frustration in the youth of the country is writ large on the faces of these followers coming to rally India against corruption, right from school to college and those out on the streets, running almost for months and years in search of jobs from office to office. Public memory is short, and yet the last year's tragic death of many near Bareilly on top of a train, who had rushed forward for a record number of vacancies for ITBP force recruitment. I remember many such incidents which remind us of the State of the nation, as the youth said to be a Demographic Dividend in the book of Mr. N. Nilekani, Imagining India, is little seen as a virtual Demographic Human Bomb, as they face corruption live at each encounter in the society whether awake or asleep, and yet the 20 years since 1991-2011 our Govt is unmindful of the social turmoil taking place, it is covertly allowed to take gigantic proportions as appearing now. The long queues of employment assurance at Placement Meets by many High Profile Corporate, disparities in pay and perks at all levels, the private sector adding fuel in the funnel, in glove with the bureaucratic set up have also proved to give only hollow promises, and our whole machinery of Planning Commission, its various arms, as also the Finance Ministry, the Labor Ministry, the HRD Ministry, and Home Ministry have only added fuel to the fir,e without imagining whither Bharat (India) is drifting below their very Parliament which is busy analyzing statistical jugglery and not sensing the pulse of the Nation. If Bharat has to be a super power a work Horse of 21st century New National Awakening of Swami Vovekananda, it can be only with its rich and intelligent Youth Power as the Human Power House of Social Wellness, Peace and Happiness quotient for its citizens. If this Human Power House is not manged and Kept in proper size and Shape any saved from deformity or distortions to take place, the 4-5 ministry's named above will become the cause a catastrophic human anger blast if it is suppressed. I feel surprised how can it be that our country's three said to be the ablest Policy makers, ex alumni of Harvard Business School, can miss out what they ought to have taken note long back, as I believe they are known for all noble intentions. I remember even late Pt Nehru strongly defending Late Pratap Singh Cairon on Charges of Corruption. So did many of our past PM's spoken, that in a country of this size corruption by one or two persons is quite possible and should not be made an issue at National Level. Definitely, such statements and protections to corrupt have been responsible for today's conditions in the country.This has been the mindset of our successive Govt's, and have been the soul cause of the state of things today. The Economic Reforms Policy introduced in 1991, and which was successively steered in managing the country's finances out of the troubled state of the Nation, but in 1995-96 the Harshad Mehta frauds should have at least alerted promising lofty doles of few hundreds under MANREGA etc. to quench their hunger & thirst, have lastly realised and discovered the hollowness in the in the name of social justice who has seen their parents undergo tormented people in this country were silently sleeping with regular doses of opium of corruption as a way of life expressed vehemently by all sections of the society, irrespective of age, caste, religion, region, occupation, literacy color or creed for the first time converging into a massive peaceful protest of the UPA Govt. and Congress as a political party with a track record of highest protection of corrupt there are many eye opener and intellect shaking issues coming to forefront. All over the country and symbolically the Convergence of People portrayed in Ram Lilla Grounds during last 6 -7 days, has been largely let loose due to the carry over syndrome of inefficiency, lethargic actions, and non proper official secrecy wrongly understood and maintained to deprive the citizens of their Rights asured under Directive principles of State Policy wrongly implemented to suit a particular Political party of the country and crushed by the arrogant bureaucratic machinery. Lastly, I believe and trust that the Parliamentarians, will search into their hearts that they are not to dictate their whims and fancies to the Nation as Rulers but be Ready to serve the People of this great Nation with fan open mind and right intentions. Perhaps it is time to revive Servants of India Society as was envisioned by G.K. Gokhale Ji. My support to all youth ACTIVISTS of Nations' 2nd War of Social Justice, and Society's Empowerment. My Salute to all the Martyr's of the Nation. JAI BHARAT MATA Ki, Vir SAPOOTON KI, JAI BHARAT.

के द्वारा:

के द्वारा:

आनंद जी लेख को कभी अधुरा नही छोडना चाहिए ,जहाँ तक देश की बात है ,हमारे या आप के लिखने से लोगों की सोच पर कोई असर नही पड़ने वाला है ,जिस देश के नागरिक धर्म ,जाती,पन्थ आदि से अलग सोचने की जहमत नही उठा सकते,जिस देश के नेता गन अपने बहुसंख्यक नागरिकों को आतंकवादी की उपाधि से नवाजते हैं [उक्त वाक्य को पार्टी विशेष से मत जोिडयेगा ]उस देश में भ्रस्ताचार की भी बात शायद नेताओं को असंवेधानिक लगे ,जहाँ तक भ्रस्ताचार की बात है तो यह शब्द हमारे देश की आत्मा है, यहाँ लिखने से कुछ नही होगा जरा जमीनी हकीकत को देखिये इस शब्द का विरोध करने पर गली ओर गोली दोनों मिलेगी अब यह न कहियेगा की क्या जंगलराज है जबिक आप जानते हैं की है ,शाहब आप किसी विभाग में कार्यरत हैं जरा भ्रस्ताचार के खिलाफ आवाज उठा क्रर देखिये खजियल कुत्ते की तरह आप को हर जगह से भगाया जायेगा ,भारत इतना जल्दी अमीर केसे हो गया , रोड पर लाखों की गाड़ियों में शराब के शुरुर में लोगों को कीड़ों की तरह रोंद रहे हैं, इतना पैसा कहाँ से आया कोई पूछने वाला है ,आप या हम किस तरह बसर कर रहे हैं बच्चों की फीस, घर का खर्च,बीमारी शादी विवाह तमाम बातें हैं ,ओर जब एक बार मुह से खून लग गया फिर आदत कहाँ छूटने वाली है .....आगे फिर कभी

के द्वारा:

बुरा माननें का कोई मतलब नहीं. हर ब्यक्ति को अभिब्यक्ति की स्वतंत्रता है. मैं दीपिका जी की भावनाओं का क़द्र करता हूँ. उनके विचार हो सकता है मेरे विचारो से २५ नहीं १०० हो, मैंने उनका ब्लॉग पड़ कर ही अपने विचार रखे हैं. मेरा स्पष्ट कहना है की हर सामाजिक बुराई एक सामाजिक बुराई है, चाहे वह ओनर किलिंग हो या लड़कियों को बहला कर उससे गलत काम करवाना? आप मानेगें की उम्र का एक पड़ाव ऐसा आता है जहाँ भावनाएं ज्यादा उबाल मरती हैं , विवेक कम. सही है की उस उम्र में कोई सही रास्ता दिखानें वाला हो, लेकिन एक अपराध को दूसरे से कम आंकना नागनाथ और सांपनाथ की तुलना करना है. आशा है आप और दीपिका जी मेरी भावनाओं को समझनें की कोशिश करेंगें.

के द्वारा:

आनंद जी, जिस बचकानी तरह से आपने दीपिका के सवाल का जवाब दिया आपसे अपेक्षित नहीं था| १. दीपिका ने सवाल पूछे हैं तर्क नहीं दिए और आप उसे तर्क कह रहे हैं | २. दीपिका ने कही भी आनर किलिंग को जायज नहीं कहा और आपने उसे जायज ठहराने के तर्क का दोषी ठहरा दिया | ३. दीपिका ने माता पिता की गलती की और स्पष्ट इशारा करते हुए उनकी भर्त्सना की है और आप उसकी बात तो नज़रंदाज़ कर गए | ये तो ज्यादती है सर | कृपया आप उसके कमेन्ट को फिर से पढ़ कर समझें वर्ना मेरी बहन को दुःख होगा की जागरण का एक प्रबुद्ध ब्लॉगर एक छोटी लड़की के शब्दों के भाव तक नहीं समझ पाया | आप शायद जागरण के पहले ब्लॉगर हैं जिन्होंने पाठकों के प्रश्नों का जवाब दिया | आपके हम ह्रदय से आभारी हैं | एक बात और यहाँ विचारों के मामले में जो जागरण की चुनौती थी - "क्या अपने विचारों से दे सकते हैं अनुभवी विचारकों को भी टक्कर ?" मुझे पूरी होती दिखाई दी क्योंकि इस मामले में मेरी छोटी बहन आपके जवाब के समक्ष २० नहीं २५ नज़र आती है ! बुरा मत मानियेगा आप बहुत ही अच्छे हैं कम से कम आपने पाठको की टिप्पड़ी का कुछ न कुछ जवाब तो दिया हमें मानो बहुत बड़ा ईनाम मिल गया | आपको कोई बात बुरी लगे तो क्षमा कीजियेगा हम अभी आपसे बहुत छोटे और कम जानकार हैं |

के द्वारा: chaatak chaatak

मैं आपकी इस बात से अक्षरशः सहमत हूँ कि सामजिक समस्याओं का हल न्यायालय कभी नहीं कर सकता | अगर एक करेगा तो दूसरी उससे बड़ी तैयार मिलेगी | भारतीय समाज बुरा नहीं है न ही इसकी संस्कृति बुरे हैं चंद लोग जो बिना तथ्य तक पहुंचे निर्णय कर बैठते हैं, अपने हित के लिए दूसरों को गुमराह करते हैं | आपके कई लेख मैंने पढ़े लेकिन जान बूझ कर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी क्योंकि आपको बुरा लगने की पूरी संभावना थी | आपके विचारों में अपरिपक्वता कूट-कूट कर भरी है | अगर आप को बुरा न लगे तो आप मेरी बड़ी या छोटी बहन बनकर मुझसे बात करें क्योंकि अगर आप इन मुद्दों की तह तक जाना चाहती हैं तो लम्बी बात (बहस नहीं) करनी होगी | आपने सिक्के के एक पहलू को देखा है लेकिन दूसरा पहलू शेष है | मैं कड़वा जरूर हूँ पर बहुत बुरा नहीं | निखिल जी, कौशल जी, मुझसे कई मुद्दों पर व्यक्तिगत रूप से जुड़े हैं | और दीपिका जी मेरी ही छोटी बहन हैं | मेरी ई मेल आई.डी. है- krishnotcrisp@gmail.com मेरी किसी बात का बुरा मत मानियेगा हो सकता है आपसे बात करके मैं ही कुछ नया सीखूं |

के द्वारा:

अनुराधा जी, आपकी दोनों ही सूचनाएँ गलत हैं | भारतीय परिधान क्यों साड़ी और दुसरे ऐसे ही कपडे हैं न तो आपको इसकी जानकारी है और न ही आपने ऊपर लिखी टिप्पड़ी ठीक से पढ़ी | आनर किलिंग अपनी बच्ची को संभाल न पाने वाले माता-पिता द्वारा संभावित मान-हानि (जो वास्तव में होती भी है) औरतों के कपड़ों की जो डिजाइन आप बता रही हैं वो हास्यासपद है | भारतीय परिधान से कोई भी अंग नहीं झलकता | अब आप उसे दिखाने के लिए ही पहनो तो बात ही अलग है | ऊपर लिखी टिप्पड़ी में उन्ही गंदे डिज़ाइनर लोगों की बात की गई है जिन्होंने आपके मन में बल्कि अधिकतम नारियों के मन में ये बात बैठा दी कि भारतीय परिधान बुरे हैं | कभी खेतों में जी तोड़ कर काम करती महिलाओं को देखा है ? ज्यादातर साडी पहनती हैं लेकिन मजाल है कि उनका कोई अंग आप देख पायें | वैसे आपने ऊपर लिखे किसी सवाल का जवाब नहीं दिया अगर देतीं तो अच्छा होता |

के द्वारा:

दीपिका जी; आपकी टिप्‍पणी पर मै अपने विचार व्‍यक्‍त कर रही हूं; यदि ये विचार आपकों पसन्‍द न आये तो भी आप मेरे विचारों पर गौर जरूर करेगी। मान सम्‍मान एक मन:स्थिति है जिसे व्‍यकित समय एवं परिवेश के साथ प्राप्‍त करता है। मै आपसे एक बात पूछती हूं कृपया इसका उत्‍तर विना पूर्वाग्रह से ग्रस्‍त हुए दीजियेगा। यदि कोई स्‍त्री पूरी तरत से नग्‍न अवस्‍था मे आपके सामने आये और आपके पास इतने ही कपडे है कि आप उसके किसी एक हिस्‍से को ढक सकती है तो आप शायद उसके गले से लेकर जांघ तक के हिस्‍से को ढकना चाहगी नाकि जांघ से नीचे के हिस्‍सें को। अगर आप पश्चिमी देशों के कपडों को देखे तो आप पायेगी कि इन देशों ने जो कपडे पहने जाते उसमे केवल जांघ से नी‍चे के भाग ही खुले होते है जबकि भारतवर्ष मे पहिने जाने वाले कपडों मे शरीर का वह भाग दिखता है जिसे हम पहले ढकना चाहते हैं। ऐसा क्‍यों है। ऐसा इसलिये है क्‍योकि हम आदि काल से ऐसा देखते आये है इसलिये यह बुरा नही लगता है जबकि यूरोपियन कपडे हमे बुरे लगते है। यह एक मानसिक स्थिति है। जहां तक प्रेमियों द्वारा प्रेमिकाओं को कोठे पर बेचने; उनकी ब्‍लू फिल्‍मे बनाने या नंगे प्रदर्शन के लिये प्रेरित करने का प्रश्‍न है किसी भी आनर किलिंग के प्रकरण मे उक्‍त स्थितियां नही आयी। आप भारतवर्ष को किस दुनिया मे ले जाना चहती है जहां माता पिता विना मेल शादी कर देते थे और लडकी उसे अपनी नियत मानकर स्‍वीकार कर लेती थी;फिर तिल तिल कर पूरी जिन्‍दगी मरती रहती थी। जाति पांत उच नीच हमने बनाये हैं फिर हम समाज को क्‍यों बाट रहे है। %E

के द्वारा: Anuradha Chaudhary Anuradha Chaudhary

खंडेलवाल जी, आपकी रोष से भरी प्रतिक्रिया बड़ी भली लगी काश के ये प्रतिक्रिया आपने माँ, बहन, बेटी या महज़ एक नारी को बहकाने उसका बलात्कार करने या उसे वेश्या बनाने या उसे धन और ख्याति का लालच देकर सार्वजनिक रूप से (जैसा आप फिल्मों में देखते हैं) नंगा नचाने वालों के लिए दी होती | शायद आनर किलिंग उतना वीभत्स नहीं जितने कि उपरोक्त अपराध हैं | क्या हुआ है आज इन भारतीय विचारको को विदेशी दारू पी के चिंतन करते करते इनके आँखों से अपनी संस्कृति का पर्दा तक हट गया और नाचने लगे नंगा यूरोपीय नाच | जिन लडकियों को आनर किलिंग का शिकार होना पड़ा क्या वे सचमुच किसी कि माँ, बहन या बेटी रह गई थी | ये कैसी माँ जिसके मन में अपने ही माता-पिता के सम्मान का ख्याल नहीं ? ये कैसी बहन जीने अपने ही भाई को पूरे समाज के सामने रुसवा कर दिया ? ये कैसी बेटी जिसने अपने बाप को सिर्फ अपनी हवस के लिए दरिन्दा बना दिया | आप लोगों को एक मशविरा है जा के उन माता-पिता के आहात मन को टटोलो जिन्होंने अपनी ही बेटी को क़त्ल किया हो | क्या गुजरती होगी उन पर जब वो अपने ही कलेजे की टुकड़े को क़त्ल करने के बाद अपने को कमजोर ना दिखने देने की मजबूरी में कहते हैं \'हमें कोई पछतावा नहीं कि हमने अपनी बेटी का क़त्ल किया\' | ये बेवकूफ विचारक जो स्त्रियों के पछधर होने का स्वांग करते हैं | भारतीय समाज में एक नई कुरीति को जन्म दे रहे हैं जिसमे बच्चियों को पैदा होते ही मार दिया जायेगा या फिर उन्हें घर की चार दीवारों के बीच कैद कर दिया जायेगा जहाँ शिक्षा और नए विचारों पर बालिका विकास पर पूरी पाबंदी होगी | क्या इन अंधे नकलची विद्वानों को इतना भयानक परिणाम दिखाई नहीं देता है ? मेरा सवाल जागरण के सभी विद्वान लेखकों और ब्लागरों से है - १. इश्क में फंसी लड़कियों को जबरदस्ती वेश्या और काल-गर्ल बनाने के मामले ज्यादा हैं या आनर किलिंग के ? २. तथाकथित प्रेमियों द्वारा छिप के शादी करने के बाद लड़कियों की ब्लू फ़िल्में बनाकर बेचने वाले अपराध ज्यादा हैं या अनार किलिंग के ? ३. पैसे और चमक दमक के विलासी जीवन के लिए औरत को नंगा नचाने वाले कलाकारों (मैं सारे फैशन डिज़ाइनरों और फिल्मकारों को भी जिसमे अपनी बेटी की नंगी तस्वीर की प्रशंशा करने वाले जागरण फीचर के महेश भट्ट भी शामिल हैं (मुझे तो इनके सामजिक प्राणी होने पर ही शक है हाँ ये जैविकीय प्राणी अच्छे हैं)) द्वारा स्त्री को भ्रष्ट करने के मामले ज्यादा हैं या अनार किलिंग के ? क़त्ल और आत्महत्याएँ इज्ज़त के लिए ही हों तो इसे सौभाग्य समझिये कि दुनिया में एक देश ऐसा भी है जहाँ सम्मान जीता है | वर्ना करो यूरोपे की नक़ल और पैदा करो हर घर में एक वेश्या | मैं तो कहता हूँ फांसी चढ़ा दो ऐसे माँ बाप को जो अपनी बेटी का कत्ल करते हैं इनका गुनाह कम नहीं है | ये गधे तब कहाँ थे जब लड़की को संस्कार देने थे ? जब लड़की के कदम बहक रहे थे ? जब लड़की घंटों मोबाइल से चिपक दे इश्क लड़ा रही थी ? जब उसके खर्चे तुम्हारी आमदनी से ज्यादा थे ? जब वो अकेले प्रेमी से मिलने अँधेरे कमरे और सुनसान झाड़ियाँ तलाश रही थी ? गलती तो इन माँ बाप की भी है सजा कौन उठाएगा | मुझे याद है कुछ वर्षों पहले हुआ गोरखपुर का हादसा एक इश्क करने वाली लड़की के कारण माता-पिता, दो छोटे अबोध भाई-बहन मौत की आगोश में सो गए | माता-पिता ने पहले बच्चों को जहर देय और उन्हें फांसी लगा के आँगन में टांग दिया फिर माता-पिता में जहर पिया और दोनों ने खुद भी फांसी लगा ली | लोमहर्षक घटना थी जिसने दुर्खीम और फ्रायड के आत्महत्या के सिद्धांत को मित्थ्या साबित कर दिया था | अपेक्षा है कि आप सभी प्रबुद्ध-जन इस बात पर विचार जरूर करेंगे | एक आखिरी प्रश्न - ५. आप कैसा जीवन चाहेंगे ? शान से या अपने ही बच्चों के हाथों बेज्जती से सर झुका कर ? (मेरे सवालों का जवाब वे विद्वान् न दे जिन्हें सम्मान का अर्थ न मालूम हो या जो यूरोपीय नंगई के अंध भक्त हैं | हाँ वे लोग मुझे पुराने और सादे-गले विचारों वाला बुद्धिहीन (जिसे आधुनिकता या संस्कृति का ज्ञान नहीं) जाहिल, पागल सनकी या बच्चों की हत्या का पछधर दरिंदा इत्यादि कह सकते हैं |)

के द्वारा:

माँ बाँहों बेटी के हत्यरों को सरेआम जूतों चप्पलों से पित्त जाये और इनको piteny वालिभी महिलाएं हो इनको बचाने वालो पैर ईनके साथ साथ कानूn की सखत धाराओं काओ लगाकर इन्हे सजा मिलना होना छियें इन्जैसे लोगों के लिए भी आजीवन सजा का पेर्भाधान होना चहिये समय की नैतिक की यही मांग है वरना रोज़े रोज़े माँ bahon की हत्या होगी और सब देखते रहंगे इनकी मानसिकता येही है की समाज ने इनको जो पुच bannaya ussey बड़ा कोई नहीं इन्हे नहीं मालूम की इनके उप्पेर भी सुब्से बड़ी सुपरमे कोर्ट है परन्तु वहां तक जाते जाते भारस्त्चारी लोग इनके साथ मिल कर इनको सजा पाने से पहले उमेर्कैद पन्ने से बछा लेते काननों और भी सखत हो तभी ऐसा हो payega

के द्वारा:

आशा है कि विशेषज्ञों की मंडली में कुछेक महिलायें ऐसी भी हों जिनका खुद का सरोकार भारतीय नारी, भारतीयता और भारत की संस्कृति से भी हो l वे स्वयं सुसंस्कृत और संस्कारवान होने के साथ उस समाज का प्रतिनिधित्व करने योग्य भी हों जिसके बारे में वे विचार करेंगी l वर्ना भारतीय समाज इस कमेटी के नियम क़ानून का हश्र बिना विरोध के ही जो करेगा उसका अंदाजा उन तथाकथित समझदार न्यायाधीशों को हो चुका होगा जिन्होंने आनर किलिंग करने वालों को सजा तो सुनाई लेकिन उसके बाद से आनर किलिंग एक तूफानी बाढ़ की तरह बढ़ी l जहाँ वर्ष में कहीं १ या २ आनर किलिंग की घटनाएँ होती थीं वहां माह में ५, ५ हत्याएं हुई l कितनी नाकारा साबित हो रही हैं इन न्यायाधीशों की टिप्पड़ियां इन्हें तो खुद पे शर्म आनी चाहिए जो ये बेवकूफों की तरह सिर्फ फैसले सुनाते जा रहे हैं l नजीरों के गुलाम इन न्यायाधीशों को सिर्फ नक़ल करनी आती है न्याय का तो इनसे दूर-दूर तक वास्ता ही नहीं दीखता l छोटी सी समस्या का समाधान नहीं निकलता इन मूढों से शर्म तो आने से रही जब एंडरसन मामले में हिन्दुस्तान से ब्रिटेन तक थू-थू होने पर शर्म नहीं आई तो अब क्या खाक आएगी l

के द्वारा:




latest from jagran